Vaccination in Bihar : बिहार के गांवों में दौड़ेगा टीका एक्सप्रेस, लेकिन सिर्फ इनके लिए

Share It

बिहार में कोरोना महामारी को मात देने के लिए राज्य सरकार कई तरह के निर्देश जारी कर रही है साथ ही कई अस्थाई कोरोना अस्पताल चला रही है। महामारी को मात देने के पथ पर चलते हुए बिहार सरकार ने एक और अहम फैसला लिया है। जो है चलंत टीकाकरण केंद्र। जी हां बिहार सरकार ने चलंत टीकाकरण केंद्र चलाने का निर्णय लिया है। इसके लिए ‘टीका एक्सप्रेस’ शुरू होगा। राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार (Manoj Kumar) ने सभी जिलों के सिविल सर्जनों को टीका एक्सप्रेस शुरू करने का निर्देश दिया है। निर्देश के मुताबिक सुदूर ग्रामीण इलाकों तक यह टीका एक्सप्रेस जाएगा और लोगों को कोरोना का टीका लगाएगा। आपको बता दें इस चलंत टीका केंद्र को 45 से अधिक उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण करने का निर्देश दिया गया है।

इसके लिए राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के 700 वाहन टीका एक्सप्रेस के रूप में चलेंगे। इसमें एएनएम और फार्मासिस्ट की टीम रहेगी। एएनएम टीका देंगी, और फार्मासिस्ट निबंधन इत्यादि का कार्य करेंगे। इस चलंत टीका केंद्र के माध्यम से 45 से अधिक उम्र वालों का ऑन स्पॉट निबंधन किया जाएगा। जिसके बाद 45 से अधिक उम्र के लोगों को टीका लेने के लिए सरकारी अस्पताल नहीं जाना पड़ेगा। टीका एक्सप्रेस से लोगों को नि:शुल्क टीका लगाया जाएगा।

22 मई को नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्सिग के माध्यम से कोरोना की RT-PCR जांच के लिए चलंत वैन को रवाना किया था। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उन्होंने बताया कि एक दिन में यह वैन 1000 लोगों की जांच कर सकेगी और खासकर राज्य के ग्रामीण इलाकों में काफी मदद मिलेगी। इसके बाद 24 घंटे के अंदर लोगों को रिपोर्ट भी दी जाएगी। साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ( Nitish Kumar) ने कहा कि इस महीने के अंत तक ऐसी चार और चलंत वैन की सेवा शुरू की जाएगी। साथ ही आपको यह भी बता दे कि देश में 1 मई से शुरू हुए 18 साल से अधिक और 44 साल के भीतर के लोगों को लग रहे टीकाकरण में सबसे अधिक टीका लगाने में बिहार दूसरे नंबर पर अपना स्थान बनाया है। देशभर में सबसे ज्यादा टीकाकरण उत्तर प्रदेश में और दूसरे नंबर पर बिहार में हुआ है।