जानिए कब होगा Bihar में नगर निगम का चुनाव, निर्वाचन आयोग की ओर से आया ये ताजा अपडेट

Share It

PATNA : बिहार (Bihar) विधान परिषद (MLC) के चुनाव खत्म हो चुके हैं और आज मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) जिले के बोचहां विधानसभा (Bochaha Assembly) सीट के लिए उपचुनाव (By-election) हो रहा है. लेकिन इन सब के बीच बिहार की जनता को नगर निकाय चुनाव (Bihar Nagar Nikay Chunav 2022) का इंतजार है. सबकी नजर शहर की सरकार यानी नगर निकाय चुनाव पर टिकी है. बिहार में नगर निकायों के चुनाव कब होंगे इसके लिए निर्वाचन आयोग ने तैयारी शुरू कर दी है. Bihar Mayor-Deputy Mayor Election Update

बिहार में नगर निकाय के चुनाव में देरी होने के आसार हैं. नगर निकाय चुनाव और पंचायत उपचुनाव में फिलहाल देरी हो सकती है. तकनीकी पेच के चलते नगर निकाय के चुनाव में देर होने की अटकलें लगायी जा रही हैं. दरअसल जनसंख्या के आधार पर नए वार्डो के गठन के बाद ही मतदाता सूची तैयार होगी और बूथों का गठन होगा. और यही मुख्य वजह है कि चुनाव में देरी होने ही संभावना है.

इस कार्य को पूरा करने को लेकर सोमवार को राज्य निर्वाचन आयोग ने सभी जिलों के अधिकारियों को निर्देश दिया है. चुनाव आयोग के सचिव मुकेश कुमार सिन्हा ने सोमवार को 79 नगर निकायों में वार्डों के गठन को लेकर सभी प्रमंडलीय आयुक्त, सभी जिलाधिकारी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी (नगरपालिका) निर्देश दिया. इनमें 6 नगर निगम, 34 नगर परिषद और 39 नगर पंचायत शामिल हैं.

बिहार के 79 नगर निकायों के वार्डों के गठन की प्रक्रिया कल यानी कि 13 अप्रैल से शुरू होगी और जून तक जिला गजट में प्रकाशित वार्डो की सूची और मानचित्र देना होगा. आयोग के अनुसार नवगठित, उत्क्रमित, सीमा विस्तारित नगर निकायों के वार्डों के गठन हेतु समय-सीमा निर्धारित की गयी है. आयोग के निर्देशानुसार 13 से 27 अप्रैल तक वार्डों का परिसीमन और गठन किया जाएगा.

इसी महीने 28 अप्रैल को गठित वार्डो का प्रारूप प्रकाशन किया जाएगा. 28 अप्रैल से 11 मई तक आम लोगों से आपत्तियां प्राप्त की जाएगी. इस दौरान प्रारूप प्रकाशन के दौरान प्राप्त आपत्तियों का निबटारा 30 अप्रैल से 20 मई के बीच किया जाएगा. वार्डों की सूची तैयार कर उसपर प्रमंडलीय आयुक्त का अनुमोदन 21 से 27 मई के बीच प्राप्त किया जाएगा. अंतिम रूप से गठित वार्डों का जिला गजट में प्रकाशन 30 मई, 2022 को किया जाएगा.

राज्य सरकार (नगर विकास एवं आवास विभाग) और राज्य निर्वाचन आयोग को जिला गजट में प्रकाशित वार्डों की सूची और मानत्रित प्राप्त करने की अंतिम तिथि 2 जून तक निर्धारित की गयी है. आयोग ने सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी (निर्वाचन) सह जिलाधिकारी को संबंधित अधिकारियों की बैठक जिला स्तर पर शीघ्र बुलाकर वार्डों के गठन एवं परिसीमन के संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है. आपको बता दें कि अंतिम रूप से तैयार की गई वार्डों की सूची में बिना राज्य निर्वाचन आयोग के आदेश से किसी प्रकार का परिवर्तन या संशोधन नहीं किया जा सकेगा.

इन तकनीकी कारणों की वजह से आशंका जाहिर की जा रही है कि बिहार में नगर निकायों के चुनावों में अभी देरी हो सकती है. पिछली बार साल 2017 में नगर निकायों के चुनाव जून महीने में संपन्न हो गए थे. हालांकि चुनाव की पक्की तारीख के बारे में कयास ही लगाए जा रहे हैं. आपको बता दें कि बिहार में पहली बार मेयर और डिप्टी मेयर का चुनाव सीधे जनता के वोटों के जरिए होगा. इसे लेकर भी नए नियम-कानून बनाये जा रहे हैं.