Razia Sultana : बिहार की इस सुल्तान ने रचा इतिहास

Share It

अगर आपमें कुछ पाने का जुनून है तो सारी क़ायनात आपके क़दमों में नतमस्तक होगी। बिहार लोक सेवा आयोग ने हाल ही में 64वीं संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा का रिजल्ट जारी किया था। इस परीक्षा में कई अभ्‍यर्थियों ने सफलता का परचम लहराया है। इसमें बिहार की 27 वर्षीय रजिया सुल्‍ताना (Razia Sultana) ने बिहार पुलिस बल में DSP बनने वाली समुदाय की पहली महिला बनकर इतिहास रच दिया है। रजिया सुल्ताना DSP के रूप में चयनित होने वाली पहली मु्स्लिम महिला बन गई हैं।

रजिया उन 40 अभ्‍यर्थियों में से एक हैं, जिन्‍हें इस पद के लिए चयनित किया गया है। रजिया की ख्‍वाहिश बचपन से ही लोकसेवा आयोग की परीक्षाओं में शामिल होने और सफल होने की थी और अब डीएसपी के पद पर चयन उनका सपना पूरा होने जैसा है। वह पुलिस सेवा में जाने के लिए काफी उत्सुक हैं। उन्होंने हिजाब या बुर्का पहनने वाली लड़कियों का भी समर्थन किया और कहा कि यह उन लड़कियों के लिए बाधक नहीं हो सकती जो स्कूल या कॉलेज जाना चाहती हैं।

रजिया सुल्तान फिलहाल बिहार सरकार के बिजली विभाग में सहायक अभियंता के पद पर कार्यरत है। वह मूलरूप से गोपालगंज जिले के हथुआ के रतनचक की रहने वाली हैं। इनके पिता एमडी असलम अंसारी बोकारो स्टील प्लांट में स्टेनोग्राफर पद पर नौकरी करते थे। उनका साल 2016 में इंतकाल हो चुका है। रजिया अपने सात भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं। फिलहाल पूरा परिवार बोकारो में ही रह रहा है।