Pinarayi Vijayan : केरल के राजनीति में जुड़ा नया इतिहास, Pinarayi Vijayan के शपथ लेते टुटा ये रिकॉर्ड

Share It

राजनीति एक ऐसा रंगमंच है जहां कब कौन कैसे बदल जाए पता नहीं चलता। वैसे ही केरल की राजनीति में आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। लगातार दूसरी बार Pinarayi Vijayan बतौर मुख्यमंत्री पद पर शपथ लिए। माकपा नेता पिनराई विजयन ने 20 मई को केरल के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने तिरुवनंतपुरम के सेंट्रल स्टेडियम में आयोजित समारोह में Vijayan को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। समारोह में कोविड-19 के गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया गया।

केरल हाईकोर्ट ने 19 मई को सरकार को निर्देश दिया था कि महामारी के मद्देनजर समारोह में सीमित लोग हीं भाग लें। 6 अप्रैल को केरल में हुए विधानसभा चुनाव के बाद दो मई को आए नतीजों में एलडीएफ को जीत मिली थी। LDF ने केरल में अपने प्रतिद्वंद्वियों-कांग्रेस के नेतृत्व वाले United Democratic Front (यूडीएफ) और NDA को हराकर 99 सीटें जीतकर सत्ता बरकरार रखी। जबकि UDF 41 सीटों पर जीतें वहीं BJP एक भी सीट नहीं जीत सकी। साथ ही Vijayan ने अपने कैबिनेट मंत्रियों का चुनाव भी कर लिया है।

Pinarayi Vijayan के साथ 21 कैबिनेट के सदस्यों ने भी मंत्रीपद की शपथ ली। इस बार Vijayan की कैबिनेट पूरी तरह से नयी होगी। सत्तारूढ़ LDF ने 6 अप्रैल को हुए चुनाव में 140 में से 99 सीटों पर जीत हासिल की थी। केरल के राजनीतिक इतिहास में अब तक हर पांच साल में सरकार बदलने का इतिहास रहा था। लेकिन Vijayan नेे लगातार दूसरी बार जीत हासिल कर मुख्यमंत्री बन कर केरल की राजनीतिक इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया है। साथ ही LDF की नई सरकार में बड़ा बदलाव किया जा रहा है और अब कैबिनेट में नए चेहरों को मौका दिया जाएगा।