Thomas Cup में भारत ने रचा इतिहास, 14 बार की चैंपियन इंडोनेशिया को हरा लहराया जीत का परचम

Share It

DESK: भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम (Indian Men’s Badminton Team) ने इतिहास रच दिया है. रविवार को बैंकाक में खेले गए थॉमस कप (Thomas Cup) के फाइनल मुकाबले में भारत ने इंडोनेशिया (Indonesia) को 3-0 हरा दिया. 14 बार की चैंपियन इंडोनेशिया टीम को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. लेकिन भारतीय टीम ने सारे कयासों को गलत साबित करते हुए जीत दर्ज कर के इतिहास रच दिया.

भारतीय टीम की यह जीत बेहद खास है. 12 बार हार का सामना करने के बाद भारत को 13वीं बार में जीत हासिल हुई है.भारत ने 12 मौकों पर इस टूर्नामेंट में भाग लिया था, जहां उसका बेस्ट प्रदर्शन 1979 में रहा था. तब भारतीय टीम सेमीफाइनल तक पहुंचे में कामयाब रही थी. इसके अलावा 1952 और 1955 के इवेंट में भी भारत ने अंतिम राउंड तक का सफर तय किया था.

थॉमस कप एक टीम गेम है, जहां पूरी टीम को एकजुट होकर खेलना रहता है. भारतीय दल में शामिल खिलाड़ियों ने भी पूरी लगन और मेहनत की बदौलत टीम को खिताबी जीत तक पहुंचाया. बिना एक भी मुकाबला हारे फाइनल जीतना अपने में काफी अहम है.

टीम की इस ऐतिहासिक जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय खिलाड़ियों से फोन पर बातचीत की. मोदी ने इस दौरान खिलाड़ियों को पीएम आवास पर आने का भी न्योता दिया. पीएम मोदी ने कॉल के दौरान खिलाड़ियों से कहा, ‘आप सभी ने इसे मुमकिन बनाया है … यह स्पोर्ट्स में भारत की बेहतरीन खेल जीत में से एक है.’ मोदी ने सबसे पहले किदांबी श्रीकांत से बात की. उसके बाद लक्ष्य सेन, एचएस प्रणय और चिराग शेट्टी को भी पीएम से बात करने का मौका मिला. पीएम मोदी इस बात को लेकर काफी प्रभावित थे कि भारतीय टीम ने बिना मैच गंवाए फाइनल जीता.

फाइनलमैच की बात की जाए, तो पहले मुकाबले में वर्ल्ड नंबर-9 लक्ष्य सेन ने एंथनी सिनिसुका गिनटिंग को 8-21, 21-17, 21-16 से मात दी. जबकि दूसरे मैच में सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की भारतीय जोड़ी ने केविन संजय सुकामुल्जो और मोहम्मद अहसान की जोड़ी को 18-21, 23-21, 21-19 से पराजित किया. इसके बाद तीसरे मुकाबले में किदांबी ने जोनाथन क्रिस्टी को 21-15, 23-21 से शिकस्त दी.