सोशल मीडिया पर गरजीं Lalu Yadav की बेटियां, पिता को सजा सुनाए जाने के बाद जानिए किसने क्या कहा

Share It

PATNA : बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Yadav) को आज चारा घोटाले से जुड़े एक और मामले में सजा सुना दी गई. उन्हें 5 साल की कैद और 60 लाख के जुर्माने की सजा सुनाई गई है. लालू की सजा ऐलान होते ही एक तरफ जहां समर्थकों में मायूसी छाई हुई है. वहीं, लालू के बच्चों ने सोशल मीडिया पर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कोर्ट द्वारा सजा का ऐलान किए जाने के बाद प्रेसवार्ता की थी और मामले को हाईकोर्ट तक ले जाने की बात कही थी. इस मामले में लालू-राबड़ी की बेटियां भी पीछे नहीं हैं. लालू की बेटियों ने एक के बाद एक ताबड़तोड़ ट्वीट कर अपने पिता का समर्थन किया है.

आपको बता दें कि लालू यादव और राबड़ी देवी की सात बेटियां हैं. राज्यसभा सांसद मिसा भारती, रोहिणी आचार्य, चंदा यादव, धन्नू यादव, हेमा यादव, रागिनी यादव और राजलक्ष्मी यादव. इनमें से कई सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं.

लालू को सजा का ऐलान होते ही लालू की बेटियों ने एक के बाद एक ट्वीट किए. रोहिणी आचार्य जो ट्विटर पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- अस्मत चोरों सुन लो एक बात, तुम मिटा न पाओगे, इतिहास के पन्ने-पन्ने में,लालू का नाम ही पाओगे.. रोहिणी इतने पर ही नहीं रुकीं. उन्होंने इसके बाद कई ट्वीट किए. रोहिणी ने लिखा- फकीरा ने किया ऐलान है, किसानों के हत्यारे मंत्री के बेटे को आजाद करा देंगे, अस्मत चोरों के हाथों में बिहार की सत्ता सौंप देंगे, गरीब वंचित शोषित समाज की आवाज को जेल की सलाखों में डाल देंगे..

वहीं, लालू की सबसे छोटी बेटी राजलक्ष्मी यादव ने लालू के ट्वीट पर लिखा- ‘मुझे आपकी बेटी होने पर गर्व है पापा.’ आपको बता दें कि सजा सुनाये जाने के कुछ ही देर बाद लालू यादव के ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया था. इसमें लिखा था- ‘अन्याय असमानता से तानाशाही ज़ुल्मी सत्ता से लड़ा हूँ लड़ता रहूँगा, डाल कर आँखों में आँखें सच जिसकी ताक़त है साथ है जिसके जनता उसके हौसले क्या तोड़ेंगी सलाख़ें.’

इसके बाद लालू ने एक और ट्वीट किया- ‘मैं उनसे लड़ता हूँ जो लोगों को आपस में लड़ाते है,वो हरा नहीं सकते इसलिए साजिशों से फँसाते है. ना डरा ना झुका, सदा लड़ा हूँ, लड़ता ही रहूँगा.लड़ाकों का संघर्ष कायरों को ना समझ आया है ना आएगा.’

लालू की सभी बेटियों रोहिणी आचार्य, राजलक्ष्मी यादव, चंदा यादव और हेमा यादव ने लालू के इन ट्वीट को रिट्वीट किया है. इसके अलावा इन्होने लालू के समर्थकों द्वारा लिखे गए कई ट्वीट को भी रिट्वीट किया है.

आपको बता दें कि लालू यादव को IPC की धारा 120B, 420, 409, 467, 468, 471, 477A और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 के तेहत 13 (1), 13 (2)C की धाराओं में दोषी पाया गया था. इन धाराओं में लालू को कम से कम एक साल और ज्यादा से ज्यादा सात साल की सजा हो सकती थी. लेकिन कोर्ट ने 5 साल की सजा का एलान किया है. इसके अलावा लालू को 60 लाख रुपये जुर्माना भी देना होगा.

गौरतलब है कि राष्ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले से जुड़े अन्य चार मामलों (दुमका, देवघर और चाईबासा) में पहले ही दोषी ठहराया जा चुका है. इसमें उनको कुल 14 साल की सजा हुई है. वहीं जुर्माने के तौर पर उनको अबतक 60 लाख रुपये देने पड़े हैं. लेकिन अब इन्हें 5 साल और सजा सुनाई गई है. इसके अलावा 60 लाख रुपये जुर्माना भी भरने को कहा गया है.

लालू यादव को ये सजा 1990-95 के बीच डोरंडा ट्रेजरी से 139.35 करोड़ रुपए की अवैध निकासी के मामले में हुई है. जिसमें 1996 में दर्ज हुए इस केस में 170 लोग आरोपी थे. 55 आरोपियों की मौत हो चुकी है और सात आरोपी सरकारी गवाह बन गए. वहीं दो आरोपियों ने दोष स्वीकार किया है. इस पांचवे केस से पहले लालू यादव को चार दूसरे केसों में 14 साल की सजा मिल चुकी है.

लालू को सजा सुनाये जाने के बाद तेजस्वी यादव ने प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा- “कोर्ट के फैसले पर हम कोई टिप्पणी नहीं करेंगे. हमने पहले भी कहा था कि ये कोई अंतिम फैसला नहीं है. इसके ऊपर हाई कोर्ट में हमने इस मामले को रखा है और हमें पूर्ण विश्वास है कि हाई कोर्ट में लालू जी के पक्ष में फैसला होगा.”

इसके बाद तेजस्वी ने कहा, “चारा घोटाले के अलावा ऐसा लगता है कि देश में कोई घोटाला नहीं हुआ है. बिहार में लगभग 80 घोटाले हो चुके हैं लेकिन सीबीआई, ईडी, एनआईए कहां है? देश में एक ही घोटाला और एक नेता है. विजय माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी को भूल गई है सीबीआई.”

उन्होंने कहा, “अगर लालू जी ने बीजेपी से हाथ मिलाया होता तो उन्हें राजा हरिश्चंद्र कहा जाता, लेकिन आज वो आरएसएस-बीजेपी के खिलाफ लड़ रहे हैं. इसलिए उन्हें कारावास का सामना करना पड़ रहा है. हम इससे नहीं डरेंगे.”

इधर लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने भी सरकार को घेरा. उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर खुद हत्या के मामले चल रहे हैं, सृजन घोटाले की बात कोई नहीं करता है. केवल लालू यादव को टारगेट किया जा रहा है. तेज ने कहा कि वह सरकार और जांच एजेंसी सीबीआई के के इस रवैये पर शांत नहीं बैठेंगे. वह पहले ही लालू के लिए ‘न्याय यात्रा’ निकालने का ऐलान कर चुके हैं.