गांव की सरकार बनने की तैयारी चालू , पंचायत चुनाव की अधिसूचना अगस्त में होगी जारी

Share It

बिहार में साल 2016 में गठित त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाएं और ग्राम कचहरी 15 जून के बाद भंग हो गयी। बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों में मुखिया और सरपंच के चुनाव की प्रक्रिया यानी की पंचायत चुनाव का बिगुल बजने को है। राज्य निर्वाचन आयोग ने अगस्त में पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी करने की तैयारी पूरी कर ली है। चुनाव की अधिसूचना जारी होते ही राज्य में चुनाव अचार संहिता लागू हो जाएगी। चुनाव आयोग की तैयारियों के अनुसार क़रीब 2 महीने का वक्त चुनाव प्रक्रिया को पूरा करने में लगेगा। तब तक राज्य में अचार संहिता लागू रहेगी।

पहले चरण में 38 जिलों के 76 प्रखंडों में बनेगी गांव की सरकार

बिहार में जुलाई अगस्त का समय अमूमन वो वक्त होता है जब ज़्यादातर इलाके बाढ़ की चपेट में होते हैं। इसके बावजूद पंचायत चुनाव को लेकर पूरा खाका तैयार कर लिया गया है। बाढ़ के बावजूद अगस्त से ही चुनावी प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इस बार पंचायती चुनाव 10 चरणों में आयोजित किए जाएँगे। हर चरण में प्रत्येक जिले के 2 प्रखंडों में चुनाव कराया जाएगा। पहले चरण में 38 जिलों के 76 प्रखंडों में चुनाव होंगे। चुनाव आयोग ने बाढ़ग्रस्त जिलों में पहले चरण में चुनाव संपन्न कराने का फैसला लिया है ।

बाढ़ग्रस्त जिलों के उन प्रखंडों में पहले चरण में चुनाव कराया जाएगा जहां बाढ़ का प्रभाव नहीं होगा। किन ज़िलों के प्रखंड में किस चरण में चुनाव कराए जाएँगे इसका खाका तैयार करने की जिम्मेदारी जिलाधिकारी को सौंपी गयी है।

48 घंटों हो जाएगी मतदान के परिणामों की घोषणा

राज्य निर्वाचन आयोग की तैयारी है कि हर चरण के मतदान होने के 48 घंटे बाद वोटों की गिनती शुरू कर दी जाएगी और रिजल्ट जारी होंगे। इसके साथ ही निर्वाचन आयोग ने फैसला लिया है कि पहले चरण में इस्तेमाल किए गए EVM के खाली होने बाद उन्हें तीसरे चरण के चुनाव में इस्तेमाल किया जाएगा। राज्य निर्वाचन आयोग को मांग के अनुरूप EVM नहीं मिल पाया है। इसलिए EVM की कमी के कारण पहली बार EVM से हो रहे पंचायत चुनाव में ग्राम कचहरी के चुनाव बैलेट पेपर से होंगे।
रिपोर्ट्स के अनुसार आयोग की तरफ से साढ़े तीन लाख EVM की डिमांड थी, जबकि अब तक केवल ढाई लाख EVM ही उपलब्ध हो पाए हैं। आयोग की तरफ से सभी जिलों को EVM उपलब्ध कराने वाले राज्यों की सूची दे दी गई है। इस सूची के आधार पर अपने आवंटित राज्य से जिला प्रशासन ने अपने स्तर से EVM मंगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

किस पद पर कितनी संख्या के लिए होंगे चुनाव

जिला परिषद सदस्य के लिए 1161 पद , पंचायत समिति सदस्य के लिए 11497 पद , मुखिया के 8387 पद पर, ग्राम पंचायत सदस्य के 114733 पद, सरपंच के 8387 पद और पंच के 114733 पदों पर चुनाव कराए जाएँगे।

वहीं कुछ पंचायतों के नगर निकाय में शामिल होने के कारण मुखिया और सरपंच के करीब 300 पद कम होंगे।

सभी अधिकारियों के लिए टीकाकरण अनिवार्य

कोरोना महामारी को देखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव के मद्देनजर जिलों को विशेष निर्देश जारी किए हैं। जारी निर्देश में चुनाव के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है। साथ ही सभी चुनाव कर्मियों का टीकाकरण भी सुनिश्चित कराने का निर्देश जारी किया गया है। राज्य निर्वाचन आयोग अपनी तरफ से वोटरों से भी वैक्सीनेशन कराने की अपील जारी करेगा ताकि बिना इस महामारी का प्रचार-प्रसार किए सुरक्षित ढंग से पंचायत चुनाव सम्पन्न किया जा सके।