NEPAL : 28 घंटे में बदलेंगे पड़ोसी देश के प्रधान सेवक

Share It

नेपाल (Nepal) के सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को भंग प्रतिनिधि सभा को करीब पांच महीने में दूसरी बार बहाल करते हुए प्रधानमंत्री (Prime Minister) के पी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) को बड़ा झटका दिया है जो सदन में विश्वास मत हारने के बाद अल्पमत सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने सोमवार को यह आदेश भी दिया कि दो दिन के अंदर नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष शेर बहादुर देउबा (Sher Bahadur Deuba) को प्रधानमंत्री नियुक्त किया जाए।

मुख्य न्यायाधीश चोलेंद्र शमशेर राणा की अगुवाई वाली पीठ ने पिछले सप्ताह मामले में सुनवाई पूरी की थी। पीठ में शीर्ष अदालत के चार अन्य वरिष्ठतम न्यायाधीश दीपक कुमार कार्की, मीरा खडका, ईश्वर प्रसाद खातीवाड़ा और डॉ आनंद मोहन भट्टराई शामिल थे।

सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भीतर सत्ता के लिए संघर्ष के बीच राष्ट्रपति भंडारी द्वारा सदन को भंग करने और नए चुनावों की घोषणा के बाद नेपाल पिछले साल 20 दिसंबर को राजनीतिक संकट में आ गया। 23 फरवरी को शीर्ष अदालत ने भंग किए गए प्रतिनिधि सभा को बहाल कर दिया था, जिससे मध्यावधि चुनाव की तैयारी कर प्रधानमंत्री ओली को झटका लगा था।