मुकेश सहनी बोले- BJP ने चिराग को बेइज्जत कर घर से निकाला, इस्तेमाल कर फेंकना भाजपा का चरित्र

Share It

PATNA : बिहार सरकार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी ने चिराग पासवान के बहाने अपना दर्द भी बयां किया है. सहनी ने बीजेपी (BJP) को घेरते हुए कहा कि उसकी नीति ही ’यूज एंड थ्रो’ की रही है. पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि मेरी बात छोड़ दीजिए, रामविलास पासवान को इन लोगों ने तो पद्म पुरस्कार से भी सम्मानित किया था, लेकिन उनकी ही पत्नी को बेइज्जत कर के घर से बाहर निकाल दिया. पिछले विधानसभा चुनाव में चिराग पासवान का बीजेपी वालों ने सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ खुब इस्तेमाल किया, लेकिन अब प्रताड़ित कर रही है.

पूर्व मंत्री ने कहा कि राम विलास पासवान आज भी दलितों के दिलों में बसते हैं, लेकिन उनके पुत्र और उनकी पत्नी को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बेघर कर दिया. उन्होंने कहा कि चिराग पासवान खुद कह रहे हैं कि उन्हें तो घर खाली करना ही था, लेकिन बेइज्जत कर घर से बाहर निकाला गया. रामविलास पासवान की तस्वीर तक घर के बाहर फेंक दी गई. बीजेपी को संत कबीर के दोहे के जरिए नसीहत देते हुए मुकेश सहनी ने कहा, ‘तिनका कबहूं ना निंदिये, जो पांव तले होय. कबहूं उड़ आंखों में पड़े, पीर घनेरी होय.’

मुकेश सहनी ने आगे कहा कि हमारे साथ क्या हुआ, यह भी सबको पता है. जो सत्ता तक पहुंचने के लिए किसी को यूज करते हैं और बाद में जब वे अपना हक मांगते हैं तो फेंक देते हैं, उन्‍हें जनता सबक सिखाएंगी. मुकेश सहनी ने विधानसभा उपचुनाव में वीआईपी प्रत्याशी गीता कुमारी की जीत का दावा करते हुए कहा कि यह चुनाव बिहार की राजनीति की दिशा तय करेगा. साथ हीं सियासत में मछुआरों और अति पिछड़ों की हिस्सेदारी का भी फैसला करेगा.