फिर सुर्ख़ियों में आये Lalu के साले, मां-बेटे को बंधक बनाने का आरोप, जनता दरबार पहुंचा मामला

Share It

PATNA : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) आज ‘जनता के दरबार’ (Janta Darbar) कार्यक्रम के तहत लोगों की शिकायतें सुन रहे हैं. इसी बीच CM के सामने आज एक ऐसा मामला आया जिसने एक बार फिर राजनीतिक गलियारे में हलचल पैदा कर दी. दरअसल, आज अपनी फरियाद लेकर जनता दरबार एक युवक पहुंचा. उसने राजद सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के साले (Brother-in-law) पर कई गंभीर आरोप लगाये.

दरअसल, राजधानी पटना (Patna) के बिहटा इलाके का युवक भीम वर्मा अपनी जमीन पर अवैध कब्जे और परिवार के सदस्य को बंधक बनाने की शिकायत लेकर पहुंचा. फरियादी ने यह आरोप लालू यादव के साले सुभाष यादव (Subhash Yadav) पर लगाया है. उसने कहा कि सुभाष यादव के खिलाफ FIR लिखने से पुलिस मना कर रही है. ऐसे में वह मुख्यमंत्री से मदद गुहार लगाने पहुंचा है.

आपको बता दें की जनता दरबार के बाहर अलग-अलग समस्याओं को लेकर लोग पहुंचे हैं. इसी में पटना के बिहटा से भीम वर्मा लालू प्रसाद यादव के साले सुभाष यादव पर जमीन का रजिस्ट्री कराने और पैसा नहीं देने का आरोप लगा रहा है. भीम का कहना है कि, ‘लालू प्रसाद यादव के साले सुभाष प्रसाद यादव ने जमीन की रजिस्ट्री कराई थी. पहले उन्होंने 60 लाख 50 हजार रुपए दे दिया लेकिन मेरी मां और परिवार के सदस्य को बंधक बनाकर फिर से राशि वापस करने के लिए कहा हम लोगों ने राशि वापस कर दिया. लेकिन सुभाष यादव ने जमीन नहीं लौटाई.’

फरियादी भीम वर्मा ने कहा कि इस मामले में वह तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव से शिकायत कर चुका है. तेजप्रताप यादव ने थाने में प्राथमिकी कराने को कहा लेकिन थाना प्राथमिकी दर्ज करने से इंकार कर रहा है. भीम का कहना है कि सुभाष यादव का ऑडियो भी उसके पास है और अब वह मुख्यमंत्री से गुहार लगाने पहुंचा है.

उसने बताया कि पिछले साल जुलाई में ही जनता दरबार के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था लेकिन अब तक बुलावा नहीं आया है और इसीलिए मुख्यमंत्री से गुहार लगाने पहुंचा हैं. भीम वर्मा गुजरात में काम करता है लेकिन अपनी जमीन के लिए अब मुख्यमंत्री से गुहार लगा रहा है.