CM नीतीश के ‘लवकुश’ पर BJP की नजर, सम्राट अशोक जयंती मनाएगी पार्टी, यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी होंगे शामिल

Share It

PATNA : बिहार की राजनीति जातिगत समीकरणों के आधार पर चलती है यह बात तो सभी जानते हैं. इस लिए बिहार में हरेक राजनीतिक दल जातियों को अपने पक्ष में गोलबंद करने में जुटी रहती है. अगर देखा जाएं तो इसी समीकरण के तहत बीजेपी (BJP) ने भी बिहार में मौर्य सम्राट अशोक की जन्म जयंती को धूमधाम से मनाने को लेकर तैयारी तेज कर दी है. पार्टी ने बिहार में अशोक जयंती के लिए खास इंतजाम शुरु कर दिया है. बीजेपी नेताओं के मुताबिक 8 अप्रैल को होने जा रहे इस आयोजन की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं.

जानकारी के मुताबिक इस कार्यक्रम में बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं को आमंत्रित किया गया है. जबकि पहली बार बीजेपी ने ही 2015 में मौर्य राजा की जयंती का आयोजन शुरू किया था. सम्राट अशोक की जयंती हिंदी कैलेंडर के अनुसार मनाई जाती है. इस बार चैत्र महीने के आठवें दिन यानि 8 अप्रैल को अशोक की जयंती पड़ रही है. इस समारोह में यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव शामिल होंगे.

एक प्रतिष्ठित अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने सम्राट अशोक के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने को लेकर 10 जिलों में रथों को झंडी दिखाकर रवाना किया है. बता दें कि अशोक ने ही सबसे पहले अखंड भारत की अवधारणा दी थी.

जिन जिलों में बीजेपी के रथ चलेंगे, उनमें नालंदा, वैशाली, समस्तीपुर, गया, औरंगाबाद, नवादा, पूर्वी चंपारण और पश्चिम चंपारण शामिल हैं और इन जिलों में ओबीसी समाज कुशवाहा की बड़ी आबादी रहती है. अशोक के महत्व पर पहले से रिकॉर्ड संदेश इन रथों पर बजाया जाएगा. इस दौरान अशोक को प्राचीन भारत के ‘राष्ट्रीय नायक’ के रूप में जागरूकता फैलाने के लिए लोगों के बीच पर्चे भी बांटे जाएंगे.

बता दें कि बीजेपी की नजर कुशवाहा वोटबैंक पर है खासकर भाजपा के पास कुशवाहा नेताओं की एक बड़ी संख्या है. इसलिए वो कोइरी और कुशवाहा वोट बैंक को पूरी तरह अपने साथ रखना चाहती है. साथ ही बिहार में लगभग 9 प्रतिशत (3% कुर्मी और 6% कोइरी-कुशवाहा) हैं. ऐसे में बीजेपी ‘लव-कुश’ वोटों को एकजुट करने की कोशिश कर रही है.