BPSC Paper Leak: परीक्षा से पहले क्वेश्चन पेपर वायरल, एक परीक्षार्थी की मौत, बीपीएससी ने लिया ये बड़ा फैसला

Share It

PATNA : बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की ओर से 67वीं प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Test) का आयोजन रविवार को किया गया लेकिन परीक्षा से पहले ही सोशल मीडिया पर क्वेश्चन पेपर वायरल करने का दावा परीक्षार्थियों द्वारा किया जा रहा है. आरा में परीक्षा सेंटर पर अभ्यर्थियों ने काफी हंगामा किया है. पेपर लीक की खबर मिलते ही बीपीएससी (Bihar Public Service Commission) की ओर से बड़ा कदम उठाया गया है.

ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, बीपीएससी (Bihar Public Service Commission) की संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा (Combined Competitive Examination) का क्वेश्चन पेपर लीक होने की शिकायत को लेकर एक कमिटी का गठन किया गया है. आयोग ने गठित जांच दल से 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा है. इसके बाद ही स्थिति साफ़ हो पायेगी कि परीक्षा रद्द की जाएगी या नहीं.

आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि विभिन्न टीवी चैनलों पर प्रश्न पत्र लीक होने की सूचना प्रसारित की गई. मामले में आयोग के अध्यक्ष आरके महाजन ने जांच के लिए आयोग की तीन सदस्यीय टीम गठित की है. जांच दल 24 घंटे के भीतर अपनी रिपोर्ट देगा. इसके बाद परीक्षा को लेकर निर्णय लिया जाएगा.

आपको बता दें कि बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्न पत्र परीक्षा शुरू होने से लगभग 15 मिनट पहले वायरल होने की बात अभ्यर्थियों द्वारा कही जा रही है. दावा किया जा रहा है कि टेलीग्राम, ट्विटर, फेसबुक और व्हाट्सएप समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से बीपीएससी 67वीं पीटी का पेपर वायरल किया गया. जिसे लेकर अभ्यर्थीयोंने विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर हंगामा किया.

दूसरी खबर ये है कि बीपीएससी के एक परीक्षार्थी की मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि वो लखीसराय जिले में आर लाल कालेज परीक्षा केंद्र पर एग्जाम दे रहा था. इसी दौरान वह अचानक से बेहोश होकर गिर गया. आनन-फानन में उसे इलाज के लिए तत्काल सदर अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. परीक्षार्थी का नाम उसके पास मिले आधार कार्ड और एडमिट कार्ड के मुताबिक बनारसी सिंह है, जो उत्तर प्रदेश के सोनभद्र का रहने वाला है.

आपको बता दें कि बीपीएससी (Bihar Public Service Commission) की संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा (Combined Competitive Examination) के लिए 1083 केंद्र बनाये गए थे. राजधानी पटना में 83 सेंटर बनाये गए थे. बीपीएससी 67वीं में 802 पदों के लिए परीक्षा में 5 लाख 18 हजार परीक्षार्थी शामिल होने वाले थे. जिसमें लड़कियों की संख्या भी डेढ़ लाख से अधिक है.

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए 6 लाख दो हजार से अधिक छात्रों ने आवेदन किया था. एक पद के लिए लगभग 645 अभ्यर्थियों के बीच प्रतियोगिता हो रही है. सभी परीक्षा केन्द्रों पर ओएमआर और प्रश्न पहले ही भेज दिया गया था. सभी परीक्षा केन्द्रों पर धारा 144 लागू थी. परीक्षा केंद्र के 100 मीटर के दायरे में किसी तरह की दुकान और भीड़ लगाने की अनुमति नहीं थी. लेकिन सोशल मीडिया पर प्रश्न पत्र वायरल हो गया.