BPSC पेपर लीक कांड : आयोग ने लिया बड़ा फैसला, अब प्राइवेट कॉलेजों में नहीं होगा एग्जाम

Share It

PATNA : BPSC पेपर लीक कांड के बाद बिहार लोक सेवा आयोग ने बड़ा फैसला लिया है. बीपीएससी 67वीं संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा का पेपर लीक होने के बाद आयोग ने फैसला लिया है कि आगे से किसी भी प्राइवेट कॉलेज में बीपीएससी का एग्जाम नहीं लिया जायेगा. इस बाबत सभी जिलों के डीएम को स्पष्ट निर्देश जारी किया गया है.

बिहार लोक सेवा आयोग ने जिलाधिकारियों को कहा है कि प्राइवेट कॉलेज में परीक्षा सेंटर नहीं दिया जाये. साथ ही साथ परीक्षाओं में साफ़ छवि के अफसरों को ही परीक्षा के सफल संचालन में शामिल किया जाये और उन्हें मजिस्ट्रेट नियुक्त किया जाये.

बीपीएससी के संयुक्त सचिव और परीक्षा नियंत्रक अमरेन्द्र कुमार ने बताया कि 67वीं परीक्षा में जिस तरह का मामला प्रकाश में आया है. इसके बाद सभी जिलाधिकारियों को कहा गया है कि ऐसे पदाधिकारियों की सूची तैयार की जाए, जिनका रिकॉर्ड खराब है। उन्हें किसी भी सूरत में परीक्षा के दौरान दंडाधिकारी नियुक्त नहीं किया जाए. जिलाधिकारी स्वच्छ छवि वाले दंडाधिकारी का चयन करें.

इधर, आर्थिक अपराध इकाई (EOU) और बीपीएससी के अधिकारियों को अब तक हुई जांच के बाद जो सूचनाएं प्राप्त हो रही हैं. इस हिसाब से परीक्षा केन्द्र से ही गड़बड़ी के तार जुड़ रहे हैं. यहीं से प्रश्न-पत्र वायरल किये जाने की सूचना मिली है. आरा के जिस कॉलेज से घटना घटी है, वह भी प्राइवेट कॉलेज है. इन्हीं कारणों से आयोग ने प्राइवेट कॉलेजों को परीक्षा केन्द्र बनाए जाने से प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया है.