Bihar: आधा दर्जन हेडमास्टर और शिक्षकों पर गिरी गाज, सरकार ने की कार्रवाई

Share It

BHAGALPUR : बिहार (Bihar) के भागलपुर जिले में आधा दर्जन स्कूलों के प्रधानाध्यापकों (headmasters) और शिक्षकों (teachers) पर कार्रवाई की गई है. बिना सूचना के गायब रहने के कारण वेतन रोकने की कार्रवाई की गई है. भागलपुर के जिला शिक्षा पदाधिकारी (DEO) ने हेडमास्टर (principal) और शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई की है.

भागलपुर के जिला शिक्षा पदाधिकारी डीईओ संजय कुमार ने बुधवार को इसको लेकर पत्र जारी किया. 13 अप्रैल को मध्य विद्यालय लूरी दास टोला नवगछिया का औचक निरीक्षण बीडीओ ने किया था और नामांकन व उपस्थिति पंजी में गड़बड़ी मिली थी. डीईओ ने यहां वेतन रोकने की कार्रवाई की.

डीईओ ने मध्य विद्यालय हाजीपुर शाहकुंड के प्रधानाध्यापक और सभी शिक्षकों को शोकाॅज कर वेतन रोक दिया है. स्कूल का 20 अप्रैल को बीडीओ ने निरीक्षण किया था. सुबह 10.15 बजे कक्षा नहीं चल रही थी. उसी दिन डीडीसी द्वारा कराये गये निरीक्षण में प्राथमिक विद्यालय मनिहारी सुल्तानगंज समय से पहले बंद मिला था.

स्कूल के सभी शिक्षकों का वेतन रोक दिया गया है. एडीएम ने 20 अप्रैल को ही प्राथमिक विद्यालय रायपुर पश्चिम नारायणपुर का निरीक्षण किया था. तब शिक्षक चंदन कुमार बिना सूचना के गायब थे. उनका वेतन रोका गया है और शोकॉज किया गया है. 20 अप्रैल को ही सीओ शाहकुंड ने प्राथमिक विद्यालय मोहनपुर के निरीक्षण में कमियां मिली थीं.

यहां के प्रधानाध्यापक को शोकाॅज कर वेतन रोक दिया गया है. इसके अगले दिन 21 अप्रैल को सीओ शाहकुंड ने उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय कशवा खैरही शाहकुंड का निरीक्षण किया था, जहां 10वीं में नामांकित 210 बच्चों में तीन उपस्थित थे. प्रधानाध्यापक और शिक्षकों का वेतन रोक सुधार करने को कहा गया है.