Bihar : प्रेग्नेंट महिला को कराहती छोड़ चाय पीने लगीं नर्स, सीएस ने की बड़ी कार्रवाई

Share It

SUPAUL : बिहार (BIHAR) के सुपौल में मानवता को शर्मसार करने का मामला सामने आया है. जिसके बाद सभी आरोपियों पर बड़ी करवाई की गई है. दरअसल ई रिक्शा पर प्रसव पीड़िता द्वारा नर्सों की लापरवाही के कारण बच्चे को जन्म देने के मामलें में सिविल सर्जन ने सदर अस्पताल की चार नर्सों को सस्पेंड कर दिया है. जिन नर्सों को सस्पेंड किया गया है उनमें बबीता कुमारी, श्यामलता, मीना कुमारी और रुपम कुमारी शामिल हैं.

जानकारी के अनुसार इन नर्सों के द्वारा घोर लापरवाही बरतते हुए चाय की चुस्की ली जा रही थी, वहीं प्रसव पीड़ा से कराहती एक महिला ने ई रिक्शा पर ही बच्चे को जन्म दे रही थी. जिसके बाद सीएस ने चार नर्सों को सस्पेंड कर दिया है. इन नर्सों को निलंबन अवधि में निलंबन मुख्यालय भी तय कर दिया गया है. नर्सों की लापरवाही की ये घटना 2 अप्रैल की है.

वहीं बता दें कि सदर थाना के चैनसिंह पट्टी की रहने वाली बबीता देवी को प्रसव पीङा होने पर ई रिक्शा से सदर अस्पताल लाया गया था. सभी पर कार्रवाई करने के बाद बबीता कुमारी को अनुमंडलीय अस्पताल निर्मली, श्यामलता को ललित नारायण अस्पताल बीरपुर, मीना कुमारी को रेफरल अस्पताल राधोपुर और रुपम कुमारी को सामुदायिक स्वास्थ केंन्द्र बलुवा बाजार छातापुर निलंबन निर्धारित किया गया है.

पुरे मामले को लेकर सीएस डा इंद्रजीत प्रसाद के बताया कि इस दौरान अस्पताल में मौजूद इन सभी एएनएम नर्सों को उसे देखने के लिए कहा लेकिन किसी नर्स ने चाय की चुस्की छोड़कर प्रसव पीड़िता को देखना मुनासिब नहीं समझा था. जिसके बाद काफी देर तक दर्द से कराहती महिला ने ई रिक्शा पर ही बच्चे को ही जन्म दे दिया था.