तू डाल-डाल तो मैं पात-पात, WhatsApp, केंद्र सरकार से एक कदम आगे

Share It

जहां कल तक Facebook, Instagram, Twitter भारत में बैन होने की खबरें तूल पकड़ रही थी कि आज यानि 26 मई को WhatsApp ने दिल्ली में केंद्र सरकार के खिलाफ कानूनी मुकदमा दर्ज कर दिया है। यह मुकदमा 26 मई से लागू होने वाले नियमों को रोकने के लिए Whatsapp के द्वारा दर्ज की है। Whatsapp का कहना है कि California स्थित Facebook (Fb.O) यूनिट को प्राइवेसी सिक्योरिटी तोड़ने के लिए मजबूर करेगा। WhatsApp ने दिल्ली हाई कोर्ट से अपील की है कि सोशल मीडिया को लेकर केंद्र सरकार की जो नई गाइडलाइन है वो भारत के कानून के मुताबिक यूजर्स की प्राइवेसी के हक के खिलाफ है, क्योंकि नई गाइडलाइन के मुताबिक सोशल मीडिया कंपनियों को उस यूजर्स की पहचान बतानी होगी जिसने सबसे पहले किसी मैसेज को पोस्ट या शेयर किया है।

आपको बता दे भारत में WhatsApp के लगभग 400 मिलियन यूजर हैं। Whatsapp के प्रवक्ता ने इस मुकदमे वाले बात पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है।

Facebook और Social Media कंपनियों ने भारत में भारी निवेश किया है लेकिन कंपनी के अधिकारियों को निजी तौर पर चिंता है कि भारत सरकार द्वारा तेजी से किए जा रहे बदलाव उनके लिए खतरा बन सकते हैं। वहीं Facebook ने कहा है कि वह ज्यादातर प्रावधानों से सहमत है लेकिन अभी भी कुछ पहलुओं पर बातचीत करना चाहता है। हालांकि Twitter ने अभी इस बात पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है।Whatsapp द्वारा दर्ज किए गए इस मुकदमे में साल 2017 के भारतीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला दिया गया है, जो पुट्टस्वामी के नाम से जाने जाने वाले मामले में प्राइवेसी का समर्थन करता है।