भारी तबाही मचाएगा अति भीषण चक्रवाती तूफान Yaas, ओड़िशा के तट पे तांडव शुरू असर झारखण्ड बिहार तक

Share It

अति भीषण चक्रवाती तूफान ‘यास’ 26 मई की सुबह ओडिशा के तट से टकराया है। मौसम विभाग के अनुसार, बालासोर से 50 किमी दक्षिण-पश्चिम में केंद्रित यह चक्रवात सुबह करीब 9 बजे तटीय क्षेत्र से टकराया, जिसके तुरंत बाद लैंडफॉल शुरू हो गया। रिपोर्ट्स के अनुसार तिव्रता वाले इस चक्रवात से 3-4 घंटों तक लैंडफॉल जारी रहा। मौसम विभाग के मुताबिक इस चक्रवात का असर पूर्वोत्तर में असम, सिक्किम और मेघालय तक रहेगा।

मौसम विभाग का कहना है कि यास सबसे पहले धामरा बंदरगाह के उत्तर और बालासोर जिले के दक्षिण की तरफ टकराया। इसके बाद तटीय इलाकों में 140 से 155 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने लगीं। इस चक्रवात के चलते जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, जाजपुर, भद्रक, बालासोर, कटक, धेनकनल में बेहद भारी बारिश (200 मिमी से ज्यादा) होने की संभावना है। इसके अलावा पुरी, खुर्दा, अंगुल, देवगढ़, सुंदरगढ़ जिले में भी भारी बारिश हो रही है।

पश्चिम बंगाल में ‘यास’ की वजह से बाढ़ जैसे हालात

पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में यास चक्रवात का बेहद बुरा प्रभाव देखने को मिला है। वहा पूर्व मेदिनीपुर के दीघा में तेज़ हवाओं के साथ भारी बारिश हुई। बारिश की वजह से दीघा में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। पूर्वा मेदिनिपुर, फ्रेजरगंज और गोसाबा समेत कई इलाकों में लोगों के घरों में पानी घुस गया है। रिपोर्ट्स के अनुसार इन क्षेत्रों में दो मीटर तक लहरें उठी थीं, जिससे पानी काफी आगे तक पहुंच गया।

चक्रवात के ओडिशा से टकराते ही अचानक झारखंड में बदला मौसम

यास चक्रवात के ओडिशा के तट से टकराने के बाद झारखंड के मौसम में अचानक ही बदलाव देखने को मिला। मौसम विभाग का कहना है कि झारखंड में कुछ जगहों पर जबरदस्त बारिश होगी, जबकि कल यानी 27 मई से लगभग पूरे राज्य में ही बारिश की स्थिति बनी रहेगी। ओडिशा के बाद ‘यास’ ने झारखंड की ओर रुख किया है।

बिहार समेत अन्य राज्यों में भी दिख रहा चक्रवात का असर

मौसम विभाग ने कहा है कि बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में 26 और 27 मई को अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। असम और मेघालय में 26 मई को अलग-अलग जगहों पर भारी बारिश की संभावना है।

ओडिशा में छतिग्रस्त इलाकों में आपदा प्रबंधन की टीम बचाव और राहत कार्य में जुटी हुई हैं। चक्रवाती तूफान यास के अनुमानित रास्ते मे आने वाले सभी क्षेत्रों में आपदा प्रबंधन की टीमों की तैनाती की गई है।