Bihar : सावधान हो जाएं मुखिया, सरपंच और वार्ड सदस्य, सरकार ने अफसरों को दिया ये आर्डर

Share It

PATNA : बिहार (Bihar) के मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने एक बार फिर दोराया है कि राज्य के सभी स्तर के पदाधिकारी सप्ताह में दो दिन पंचायतों में जाये. पदाधिकारी गांव के लोगों को यह सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के बारे में जानकारी दे. इससे सरकारी योजनाओं का अधिकाधिक लाभ जनता उठा सके.

उन्होंने बताया कि पंचायतों के दौर में पदाधिकारी निरीक्षण के दौरान जो भी पदाधिकारी और कर्मचारी योजनाओं के क्रियान्वयन में दोषी पाये जाये उनके खिलाफ कर्तव्य की अवहेलना करते हुए पाये जाये तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करें. उन्होंने कहा कि जमीन पर योजनाओं की परख करने के लिए, पदाधिकारियों को नियमित रूप से क्षेत्रों में जाने का निर्देश दिया गया है.

मुख्य सचिव आमिर सुबहानी द्वारा प्रशासनिक व्यवस्था को सशक्त बनाने को लेकर पिछले सप्ताह जारी आदेश पालन बुधवार को किया जायेगा. इसके तहत हर जिले में पंचायतों का अधिकारियों द्वारा औचक निरीक्षण किया जायेगा. इस आशय का निर्देश मुख्य सचिव कार्यालय द्वारा सभी जिलाधिकारियों को भेज दिया गया है.

जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वह बुधवार को मुख्यमंत्री निश्चय योजना के तहत हर घर नल का जल योजना के मेंटनेंस, जलापूर्ति की विस्तृत जांच, जलापूर्ति की उपलब्धता और लीकेज की जांच करें. इसके साथ ही हर घर तक पक्की नाली गली योजना के मेंटनेंस, सड़क की स्थिति, नालियों की स्थिति, शॉकपीट और नाली के अंतिम छोर की जांच करें.

पंचायतों के औचक निरीक्षण में प्राथमिक विद्यालय, हाइस्कूल में छात्रों की उपस्थिति, शिक्षकों की उपस्थिति भवन की स्थिति, छात्र और छात्राओं के शौचालय, पेयजल की व्यवस्था, बिजली की व्यवस्था, पोशाक, मुख्यमंत्री किशोरी स्वास्थ्य योजना, साइकिल, लाइब्रेरी, कंप्यूटर रूम, लैबोरेट्री, मिड डे मिल सेवाओं की गुणवत्ता की जांच की जायेगी.

अधिकारी एससी, एसटी, अल्पसंख्यक हॉस्टल की जांच करेंगे जिसमें उसके भवन, बिजली कनेक्शन, बिस्तर, शौचालय, किचेन, कंप्यूटर रूम, लाइब्रेरी और जलापूर्ति की स्थिति की जांच करेंगे. निरीक्षण के दौरान सभी रिपोर्ट को ऑनलाइन रिपोर्ट तैयार कर उसे मुख्यालय को भेजा जायेगा.