बोचहां उपचुनाव : दो घंटे में 11.20% हुई Voting, मतदान केंद्रों पर युवा और महिलाओं की लगी लंबी कतार

Share It

MUZAFFARPUR : बिहार विधानसभा की बोचहां (Bochaha) सीट पर हो रहे उपचुनाव (By Election) को लेकर सुबह सात बजे से ही मतदान (Voting) जारी है. सुबह दो घंटे (Live Updates) की वोटिंग में 11 फीसदी से अधिक मतदान हुआ है. मतदान केंद्रों पर महिलाओं और युवाओं की काफी भीड़ देखी जा रही है. निर्वाचन आयोग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार सुबह 9 बजे तक 11.20% वोटिंग हुई है.

आपको बता दें कि बोचहां में बने 350 बूथों पर शाम छह बजे तक मतदान कराया जायेगा. निर्वाचन आयोग ने इसकी सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. सभी बूथों पर मतदानकर्मी और सुरक्षाकर्मी तैनात हैं. गौरतलब है कि इस उपचुनाव में कुल 13 प्रत्याशियों के बीच मुकाबला है, जिनमें 10 पुरुष प्रत्याशी और तीन महिला प्रत्याशी शामिल हैं.

बोचहां विधानसभा क्षेत्र में कुल दो लाख 90 हजार 955 वोटर हैं, जिनमें एक लाख 53 हजार 354 पुरुष और एक लाख 37 हजार 597 महिलाएं हैं. बोचहां विधानसभा उपचुनाव में नतीजे का सारा दारोमदार अब 40 वर्ष तक के युवा वोटर पर निर्भर करता है. मतदाताओं में युवाओं की बड़ी संख्या के कारण राजनीतिक दलों का फोकस भी युवाओं पर है. 290955 मतदाताओं में से 40 वर्ष तक के मतदाताओं की संख्या 51 फीसदी यानी 151170 है.

बोचहां विधानसभा उपचुनाव में 40 वर्ष तक के वोटरों की बहार है. राजनीतिक दल जानते हैं कि इसी आयुवर्ग के मतदाताओं की न केवल संख्या अधिक है, बल्कि वोट देने में भी ये आगे रहते हैं. यहीं कारण है कि राजनीतिक दल व प्रत्याशियों की सभाओं में इन्हें लुभाने का सबसे अधिक प्रयास हुआ है. बोचहां विधानसभा क्षेत्र में मतदाताओं की जेंडरवार बात करें तो महिला वोटरों की संख्या भी अच्छी है.

मुजफ्फरपुर के बोचहां विधानसभा में शांतिपूर्ण तरीके से उप चुनाव कराने के लिए केंद्रीय और बिहार पुलिस बलों की खासतौर से तैनाती की गयी है. इसमें 15 कंपनी सेंट्रल आर्म्स पुलिस फोर्स (CAPF) और तीन कंपनी बिहार पुलिस बलों की तैनाती की गयी है. इसके अलावा बड़ी संख्या होमगार्ड के जवानों की भी तैनाती की गयी है. यहां पुलिस मतदाताओं में विश्वास बहाल करने के लिए विशेष छापेमारी, कुख्यात अपराधियों की गिरफ्तारी, फ्लैग मार्च और सघन जांच अभियान लगातार चला रही है.

एसएसपी जयंतकांत ने कहा कि यदि किसी भी तरह की विधि व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न होती है तो तत्काल वरीय अधिकारियों को इसकी जानकारी दें. क्यूआरटी और स्थानीय थानेदार गतिशील रहेंगे. साथ ही नियंत्रण कक्ष से सतत अनुश्रवण भी किया जाएगा. किसी भी क्षेत्र में अप्रिय या गलत कार्य होने पर पुलिस बल और क्यूआरटी की पहुंच शीघ्र होगी.