Bihar Weather Report : बिहार के 7 जिलों के लिए अलर्ट जारी, अगले पांच दिन तक चलेगी लू, 44° के पार जा सकता है पारा

Share It

PATNA : अप्रैल महीने की शुरुआत के साथ बिहार (Bihar) में तेजी से गर्मी का प्रकोप भी बढ़ने लगा है. तेजी से तापमान बढ़ने से लोगों की परेशानी बढ़ती जा रही है. मौसम (Bihar Weather Report) के बदलाव का असर प्रत्येक व्यक्ति पर पड़ने लगा है. बढ़ते तापमान का आलम यह कि लगभग सभी जिलों के अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. आने वाले अगले एक सप्ताह तक मौसम का यही मिजाज रहने वाला है.

मौसम विभाग (Bihar Weather Alert) के मुताबिक लगातार बढ़ते तापमान के बीच अगले सप्ताह तक अधिकतम तापमान बढ़कर 40 डिग्री से 44 डिग्री के पार पहुंचने की संभावना व्यक्त की जा रही है. मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटे में दक्षिण बिहार में पारा 44 के पार जा सकता है. राजधानी पटना (Patna) का अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री की वृद्धि के साथ 41.0 डिग्री सेल्सियस जाने की संभावना है.

Bihar Weather Update : मौसम विभाग के मुताबिक लगातार बढ़ते तापमान के बीच अगले सप्ताह तक अधिकतम तापमान बढ़कर 40 डिग्री से 44 डिग्री के पार पहुंचने की संभावना व्यक्त की जा रही है. मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटे में दक्षिण बिहार में पारा 44 के पार जा सकता है. राजधानी पटना (Patna) का अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री की वृद्धि के साथ 41.0 डिग्री सेल्सियस जाने की संभावना है.

Weather Update : मौसम विभाग ने दक्षिण बिहार के बक्सर, कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद, गया, नवादा और शेखपुरा में लू चलने का पूर्वानुमान है. जिन जिलों में लू चलने की संभावना है वहां के लिए मौसम विभाग की ओर से येलो अलर्ट जारी किया गया है. लोगों को सलाह दी गई है कि दोपहर के समय में बहुत जरूरी नहीं हो तो घर से न निकलें.

प्रदेश के दक्षिण भाग में गर्म और शुष्क हवा के प्रवाह से बीते दो दिनों से लू की स्थिति बनी हुई है. गुरुवार को राज्य के कुल 38 जिलों में से आठ जिलों में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर था. अधिकतम तापमान 42.8 डिग्री सेल्सियस के साथ बक्सर लगातार चौथे दिन राज्य का सबसे गर्म स्थान रहा. दूसरी ओर, पटना का अधिकतम तापमान 39.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

इधर, सूबे में मौसम के लगातार बदलते मिजाज का असर लोगों के स्वास्थ्य पर भी पड़ने लगा है. अस्पतालों में अचानक तेज पेट दर्द, उल्टी और दस्त की समस्या से परेशान मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है.